कबाब दिवस हर साल 14 जुलाई को मनाया जाता है , कबाब का इतिहास 17वीं सदी तक वापस जा सकता है, और यह मुग़लाई खानापन का प्रतीक है।

दुनिया भर में कई प्रकार के कबाब बनाए जाते हैं, जैसे शामी कबाब, टिक्का कबाब, शिश कबाब, और भी बहुत सारे।

इंडियन महाराष्ट्रियन कम्युनिटी द्वारा तैयार किए गए सबसे लंबे कबाब की रेकॉर्ड है। इसकी लंबाई लगभग 3 किलोमीटर है!

सबसे बड़े कबाब की बात करें तो पाकिस्तान ने एक विश्व रिकॉर्ड स्थापित किया है। इसका वजन लगभग 2 टन है!

वेस्ट योर्कशायर, इंग्लैंड में कबाब को एक अलग पहचान मिली है, और वहां हर साल कबाब उत्सव मनाया जाता है।

कबाब की उत्पत्ति अरबी सभ्यता से माना जाता है, जहां इसे 'कबाब' कहा जाता था, जिसका अर्थ होता है "मांस का टुकड़ा".

'कबाब' शब्द का मतलब होता है "मजबूती का टुकड़ा" या "चमकीला".

यदि आप शाकाहारी हैं, तो आपको फिर भी कबाब का आनंद उठाने का मौका मिलता है। वेज कबाब, सोया चंकी